ईद-उल-अज़हा 2024: भारत में 17 जून को, सऊदी अरब और पश्चिमी देशों में 16 जून को मनाई जाएगी

ईद-उल-अज़हा 2024: भारत में 17 जून को, सऊदी अरब और पश्चिमी देशों में 16 जून को मनाई जाएगी
  • 0

ईद-उल-अज़हा: इस्लाम में बकरीद का महत्व

ईद-उल-अज़हा, जिसे बकरीद के नाम से भी जाना जाता है, इस्लाम धर्म में एक अत्यंत महत्वपूर्ण त्योहार है। यह त्योहार इस्लामी महीना ज़िल-हिज्जाह की 10 तारीख को मनाया जाता है, जो इस्लामी कैलेंडर के अनुसार चंद्र मास होता है। इस त्योहार की खासियत यह है कि इसकी तारीख चाँद के दिखने पर निर्भर करती है, और इसी कारण यह विभिन्न देशों में अलग-अलग दिनों में मनाया जाता है।

2024 में ईद-उल-अज़हा की तारीखें

2024 में, भारत, पाकिस्तान, बांग्लादेश और अन्य दक्षिण एशियाई देश 17 जून को ईद-उल-अज़हा मनाएंगे। इसके विपरीत, सऊदी अरब और पश्चिमी देशों में यह त्योहार एक दिन पहले, यानी 16 जून को मनाया जाएगा। यह अंतर चाँद के दिखने के कारण होता है, जो विभिन्न भौगोलिक क्षेत्रों में अलग-अलग समय पर दिखाई देता है।

ईद-उल-अज़हा, जिसे कुर्बानी का त्यौहार भी कहा जाता है, इस्लामिक इतिहास में महत्वपूर्ण स्थान रखता है। इस त्योहार के माध्यम से मुसलमान हजरत इब्राहिम (अलैहिस्सलाम) की कुर्बानी की याद करते हैं, जब उन्होंने अल्लाह के हुक्म पर अपने बेटे हजरत इस्माइल (अलैहिस्सलाम) की जान देने की पेशकश की थी।

कुर्बानी का महत्व और उसका तरीका

कुर्बानी का महत्व और उसका तरीका

इस दिन मुसलमान जानवरों की कुर्बानी देते हैं, जो आमतौर पर बकरा, भेड़, गाय या ऊंट हो सकता है। इस कुर्बानी को अल्लाह के प्रति अपनी आस्था और समर्पण को दिखाने के लिए किया जाता है। कुर्बानी के बाद, मांस तीन हिस्सों में बाँटा जाता है: एक हिस्सा परिवार के लिए, दूसरा हिस्सा दोस्तों और रिश्तेदारों के लिए, और तीसरा हिस्सा गरीबों और जरूरतमंदों के लिए।

कुर्बानी के लिए कुछ खास नियम होते हैं जिन्हें मानना आवश्यक होता है। सबसे पहले, कुर्बानी करने वाले व्यक्ति के पास कोई कर्ज नहीं होना चाहिए। इसके अलावा, जो जानवर कुर्बानी के लिए चुना जाता है, वह स्वस्थ और एक निश्चित उम्र का होना चाहिए। कुर्बानी के दिन, मुसलमान नमाज अदा करते हैं और फिर कुर्बानी की प्रक्रिया करते हैं। यह त्योहार तीन दिन तक मनाया जाता है और इस दौरान खुशी और उल्लास का माहौल रहता है।

हज यात्रा का महत्व

हज यात्रा का महत्व

ईद-उल-अज़हा का संबंध हज यात्रा से भी है, जो इस्लाम का पांचवां स्तंभ है। हज यात्रा सऊदी अरब के मक्का, मिना, अरफात और मदीना में की जाती है और हर उस मुसलमान के लिए आवश्यक है जो शारीरिक और आर्थिक रूप से सक्षम हो। हज यात्रा में विभिन्न धार्मिक क्रियाकलाप शामिल होते हैं जैसे तवाफ, सई और अरफात का खड़ा होना। हज यात्रा ईद-उल-अज़हा के त्योहार के एक दिन पहले समाप्त हो जाती है और इसके बाद मुसलमान ईद-उल-अज़हा मनाते हैं।

त्योहार का सामाजिक और धार्मिक महत्व

ईद-उल-अज़हा न केवल धार्मिक बल्कि सामाजिक महत्व भी रखता है। इस दिन मुसलमान एक-दूसरे से मिलते हैं, गले लगते हैं और मुबारकबाद देते हैं। सभी मिलकर दावतों का आयोजन करते हैं जिसमें विभिन्न प्रकार के व्यंजन शामिल होते हैं। इस दिन का मुख्य उद्देश्य अल्लाह के प्रति अपनी आस्था और समर्पण को दिखाना, प्यार और भाईचारे को बढ़ावा देना और गरीबों और जरूरतमंदों की मदद करना है।

ईद-उल-अज़हा का त्योहार केवल एक धार्मिक अनुष्ठान नहीं है, बल्कि यह इस्लाम धर्म की भावना, एकता और समर्पण का प्रतीक है। यह त्योहार हमें यह सिखाता है कि अपनी आस्था और विश्वास के मार्ग में हमें अपने स्वयं के सुख और आराम को बलिदान करने के लिए तैयार रहना चाहिए। यह त्योहार हमें एक-दूसरे के साथ प्यार, दया, और सहानुभूति से पेश आने की भी प्रेरणा देता है।

तैयारियाँ और व्यवस्थाएँ

ईद-उल-अज़हा के लिए तैयारियाँ कई दिनों पहले से शुरू हो जाती हैं। लोग नए कपड़े खरीदते हैं, घरों को साफ और सजाते हैं और इस खास मौके पर अपने परिवार और दोस्तों के साथ समय बिताने की तैयारी करते हैं। बाजारों में इस दौरान भारी भीड़ होती है, खासकर जानवरों की खरीदारी के लिए।

इस दिन मस्जिदों में विशेष नमाज का आयोजन होता है, जिसमें बड़ी संख्या में लोग शामिल होते हैं। नमाज के बाद, लोग कुर्बानी की प्रक्रिया शुरू करते हैं। इस दौरान सुरक्षा और स्वच्छता का विशेष ध्यान रखा जाता है ताकि किसी तरह की दुर्घटना न हो।

समाप्ति

समाप्ति

ईद-उल-अज़हा न केवल मुसलमानों के लिए बल्कि समाज के लिए भी एक महत्वपूर्ण त्योहार है। यह हमें अपने कर्तव्यों और जिम्मेदारियों को याद दिलाता है और हमें अपने धर्म और समाज के प्रति समर्पण करने की प्रेरणा देता है।

इस ईद पर हम सभी को एकता, प्रेम और भाईचारे की भावना को बढ़ावा देने की प्रेरणा लेनी चाहिए और अपने समाज में शांति और समृद्धि लाने के लिए प्रयासरत रहना चाहिए। ईद-उल-अज़हा का त्योहार हमें यह सिखाता है कि सच्ची खुशी वही है जो हम दूसरों के साथ बांटते हैं और उनके साथ अपनी खुशियों को साझा करते हैं।

अंजलि सोमवांस

लेखक के बारे में

अंजलि सोमवांस

मैं एक स्वतंत्र पत्रकार हूँ जो भारत में दैनिक समाचारों के बारे में लिखती हूँ। मुझे लेखन और रिपोर्टिंग में गहरी रुचि है। मेरा उद्देश लोगों तक सटीक और महत्वपूर्ण जानकारी पहुँचाना है। मैंने कई प्रमुख समाचार पत्रों और वेबसाइट्स के लिए काम किया है।

एक टिप्पणी लिखें